homescontents

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र : विदेश पढ़ने जाने वाले students के लिए अब बढ़ रही है विदेश पढ़ने की cost, हमारे देश की currency की value गिरने से students की tuition fees बढ़ गई है। इससे जो पहले से ही विदेश पढ़ रहे है उनके लिए situation ओर भी मुश्किल हो गई है। नीचे experts ने बताया है के यह कैसे हो रहा है:
Rupee के गिरने से, जो students विदेश में पढ़ रहे है, विशेषकर जो U.S में पढ़ रहे है, उनको extra loan or finance करवाना पढ़ रहा है जिससे वह अच्छे से अपनी study कर पाएंगे। Experts का कहना है के rupee के गिरने से indian students की फीस पहले से ज्यादा हो चुकी है।
Covid के बाद से ही economic अर्थविवस्ता हिली हुई है

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र
गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र


ओर inflation भी बढ़ गया है जिससे पहले ही विदेश में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स की कॉस्ट बढ़ गई है। ओर rupee का गिरना students के लिए बड़ी प्रोब्लम बनकर सामने आया है। इससे US में पढ़ रहे ओर पढ़ने जाने वाले स्टूडेंट्स को RUPEE गिरने के कारण ज्यादा लोन ले रहे है।
रुपये का मूल्यह्रास हमारे पास जाने वाले छात्रों के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है क्योंकि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट के कारण शिक्षा की कुल लागत अधिक हो गई है। यूरो और जीबीपी के मुकाबले रुपये की दर उनके मूल्यह्रास के कारण स्थिर हो गई है जो यूरोपीय देशों को विदेशी शिक्षा के लिए एक सस्ता विकल्प बनाती है : प्रशांत ए भोंसले, founder ऑफ Kuhoo Fintech ने कहा।
Experts का कहना है के जो स्टूडेंट्स पहले से ही विदेश पढ़ रहे है उन्हें ज्यादा प्रोब्लम आ रही है, लेकिन जो विदेश पढ़ने के लिए जाने वाले है वह अभी भी अपने फाइनेंस की सही से planning कर सकते है, जिससे उन्हें विदेश जाकर कोई problem नही होगी, हां कॉस्ट जरूर ज्यादा होगी, जो के स्टूडेंट इंडिया से ही arrange करकर जाएगा।
Ankit mehra, SEO and founder of Gyandhan ने कहा है के, जो स्टूडेंट्स already US में second year या 3rd year में है, उनके पास अब लिमिटेड फंड्स ही बचे है ओर फस गए है, rupee के गिरने से। Ankit mehra ने बताया के उन्हें एक स्टूडेंट का mail आया जिसमें स्टूडेंट ने ओर फंड्स मांगे थे, तो उसके बाद हमने अपने सभी clients और 150 स्टूडेंट्स को mail किया ओर पूछा ओर जिनको ओर फंड्स की जरूरत थी, उनको फंड्स देकर हेल्प की।
हालांकि, कुछ का मानना है कि एक बार में अपनी सभी ट्यूशन फीस का भुगतान करने से छात्रों को वर्तमान और भविष्य में इस तरह के वित्तीय झटकों से बचाया जा सकता है।

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र
गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र

Akshay Chaturvedi (founder and CEO of Leverage Edu) ने कहा: Student भारत में इंडियन रुपये में ऋण प्राप्त कर सकते हैं और बाद में किसी भी विदेशी currency में उतार-चढ़ाव से बचने के लिए पूरी फीस का भुगतान एक ही बार में कर सकते हैं। इसलिए, हमें विश्वास नहीं है कि छात्र निर्णय लेने में विदेशी currency में उतार-चढ़ाव अब प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं। इसके अलावा, हम छात्रों को उनके गंतव्य देशों में बैंक खाते खोलने में सहायता करने में सक्षम हैं जो उनकी विदेशी मुद्रा को उनके आने से पहले स्टोर करते हैं, जिससे वैश्विक मुद्रा प्रवाह होने की स्थिति में उन फंड्स को मुक्त कर दिया जाता है।
जब future के उम्मीदवारों की बात आती है, तो वित्तीय विशेषज्ञों ने कहा कि students और parents पूर्वानुमान और योजना पर बहुत अधिक भरोसा कर सकते हैं
यह पहली बार नहीं है जब ऐसी स्थिति हुई है; यह सबसे बड़ी हिट में से एक हो सकती है लेकिन निश्चित रूप से पहली नहीं। इसलिए, मैं parents को इन बातों को ध्यान में रखने की सलाह दूंगा जब वे अपने बच्चे के लिए विदेश में अध्ययन की योजना बनाते हैं, उन्हें वास्तविक शुल्क और भविष्य में फीस में वृद्धि के बीच अंतर सुनिश्चित करना चाहिए।

गिरता rupee: विदेश में आर्थिक संकट से लड़ते भारतीय छात्र : रुपये का अवमूल्यन पहली बार नहीं हुआ है, इसलिए मैं पेरेंट्स को सलाह दूंगा कि वे हमेशा एक मार्जिन रखें और सुनिश्चित करें कि वे इस बात को ध्यान में रखते हुए अच्छी तरह से वित्त की योजना बनाते हैं कि ऐसी स्थिति कभी भी हो सकती है। इस तरह, वे तेजी से और आसानी से धन का प्रबंधन करने में सक्षम होंगे।
भोंसले मेहरा से सहमत थे। समझने वाली महत्वपूर्ण बातों में से एक यह है कि सभी प्रतिष्ठित कॉलेज और संस्थान प्रतिभाशाली छात्रों को अपने कॉलेजों में अध्ययन के लिए मदद करने और आकर्षित करने के लिए विभिन्न छात्रवृत्ति और वित्तीय अनुदान कार्यक्रम प्रदान करते हैं। इसलिए, यदि आवश्यक हो तो उपलब्ध विभिन्न वित्तीय सहायता के लिए गहन शोध करने में परामर्शदाता मार्गदर्शन ले सकते हैं।

मास्टर program के मामले में, most colleges इंटर्नशिप, शोध परियोजनाओं, शिक्षण सहायता आदि में नामांकन की अनुमति देते हैं और सुविधा प्रदान करते हैं जो कुछ पैसे कमाने का एक वास्तविक तरीका है, जो भविष्य की अनिश्चितता के लिए सुरक्षा के रूप में अतिरिक्त पैसा कमाने का सबसे अच्छा तरीका है।

References : indianexpress.com

read more :

Leave a Comment